Home Uncategorized नरेंद्र मोदी के प्रयास से भारत “Ease Of doing business” में दुनिया का सबसे तेज छलाँग लगाने वाला देश बना Lokmat Live

नरेंद्र मोदी के प्रयास से भारत “Ease Of doing business” में दुनिया का सबसे तेज छलाँग लगाने वाला देश बना Lokmat Live

24 second read
0
0
51

वर्ल्ड बैंक की ताज़ा रैंकिंग के अनुसार भारत में कारोबार करना हुआ आसान, 30 पायदान की छलांग लगाकर दुनिया के टॉप 100 देशों में शामिल हुआ भारत, आज तक किसी देश ने इतनी ऊँची छलाँग नहीं लगाई।
भारत ने ईज ऑफ डूइं‍ग बिजनेस के मामले में एक लंबी छलांग लगाई है। साल 2017 में इस छलांग के साथ भारत 100वें पायदान पर पहुंच चुका है। आपको बता दें कि बीते साल 190 देशों की सूची में भारत 130वें पायदान पर रहा था। वहीं साल 2014 में भारत ईज ऑफ डू‍इंग बिजनेस के मामले में 142वें नंबर पर रहा। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने विश्व बैंक की रिपोर्ट के संबंध में जानकारी देते हुए कहा कि अब हमारा लक्ष्‍‍‍य टॉप 50 की पोजिशन हासिल करना है।

इसके पहले वर्ल्ड बैंक की उपाध्यक्ष यनिटी डिक्सन ने कहा कि यह क्षेत्र और दुनिया भर में सबसे ज्यादा सुधार की संख्या है जो 30 अंक की छलाँग भारत ने लगाई है ये अपने आप मे पूरी दुनिया मे एक रिकॉर्ड है । डिक्सन ने भारतीय नेतृत्व को भी बधाई देते हुए कहा कि हम उम्मीद करते हैं कि आने वाले वर्षों में भारत अच्छी प्रगति करना जारी रहे ।

प्रधानमंत्री नरेंद मोदी ने भी वर्ल्ड बैंक की आई इस रिपोर्ट के बाद देशवाशियो को ट्वीट कर बधाई दी ।प्रधानमंत्री ने अपने ट्वीट में कहा कि
🖋 ‘भारत में कामकाज की आसानी’ रैंकिंग में ऐतिहासिक कूद टीम इंडिया के सर्वव्यापी और बहु-क्षेत्रीय सुधारों का नतीजा है।


🖋पिछले 3 वर्षों में हमने व्यवसायों को आसान बनाने की दिशा में राज्यों के बीच सकारात्मक प्रतिस्पर्धा की भावना देखी है। यह फायदेमंद रहा है

🖋भारत में व्यापार करना कभी आसान नहीं रहा है भारत को आर्थिक अवसरों का पता लगाने के लिए भारत का स्वागत करता है, जो हमारे राष्ट्र को प्रदान करना है!
🖋‘सुधार, प्रदर्शन और रूपांतरण’ के मंत्र की मार्गदर्शिका के अनुसार, हम अपनी रैंकिंग में और सुधार के लिए और अधिक आर्थिक वृद्धि को मापने के लिए निर्धारित हैं।

आइए थोड़ा नजर डालते हैं आखिर भारत कैसे इतनी लंबी छलाँग लगाने में कामयाब रहा दरसअल केंद्र सरकार की आर्थिक नीतियों की बात की जाए तो 

केंद्र सरकार ने महाराष्ट्र सरकार के साथ मिलकर कारोबार शुरू करने के लिए मंजूरियों की संख्या कम करवाई। नई कंपनी शुरू करने के लिए अब अधिकांश आवेदनों को ऑनलाइन ही मंजूरी मिल जाती है। साथ ही दिल्ली व मुंबई के नगर निगमों से मिलकर कारोबार से जुड़े कंस्ट्रक्शन काम में दफ्तरों से जुड़े कामकाज को काफी कम कर दिया गया।


ऑनलाइन होने से भी काफी असर पड़ा। इसका असर रैकिंग के इन मानकों पर भी दिखाई पड़ रहा है। आइबीसी का भी असर दिखा पिछले दिनों केंद्र सरकार ने न्यू इंसॉल्वेंसी व बैंक्रप्सी कोड (आइबीसी) लागू किया जिसके कई तरह के सकारात्मक असर कारोबार के माहौल पर पड़ने के आसार हैं। इससे कारोबार के लिए कर्ज जुटाना आसान हो गया है और कर्ज देने वालों को यह भरोसा है कि उनका कर्ज डूबेगा नहीं। कंपनी के बंद होने पर उससे कर्ज वसूलना भी पहले से आसान हो गया है। इस कदम ने रैकिंग सुधारने में मदद की है।


Load More Related Articles
Load More By AShish Ranjan
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

खुद को सुन्नी वक्फ बोर्ड का वकील ना बताने पर गिरिराज सिंह ने कपिल सिब्बल पर किया बड़ा खुलासा

कल देश की सर्वोच्च अदालत में श्री राम जन्मभूमि केस की सुनवाई शुरू हुई तो कांग्रेस के नेता …