Home प्रदेश मोकामा:अनंत सिंह पर नही हुआ कोई हमला,क्षेत्र का माहौल बिगाड़ने की साजिश :ललन सिंह

मोकामा:अनंत सिंह पर नही हुआ कोई हमला,क्षेत्र का माहौल बिगाड़ने की साजिश :ललन सिंह

24 second read
0
0
129

मोकामा: जन अधिकार पार्टी के प्रदेश महासचिव एव मोकामा से पूर्व विधानसभा प्रत्याशी ललन सिंह ने मोकामा में बढ़ते अपराध और कानून व्यवस्था पर बिहार सरकार की खिंचाई की है । 

ललन सिंह ने प्रेस रिलीज जारी करते हुए कहा कि मोकामा विधानसभा में इन दिनों सरकार और प्रशासन पूरी तरह बौनी नजर आ रही है। एक तरफ श्यामसुंदर यादव खुले आम माँ बहन से दुष्कर्म करने का कार्य कर रहा है वही  बेखौफ आतंक मचाया हुआ है। सरकार और प्रशासन मूक दर्शक के भूमिका में है। श्यामसुंदर यादव के आतंक से त्रस्त होकर कुछ ग्रामीण उसे रोकने के लिए कानून के विरुद्ध जाकर यादव पर हमला करने के प्रयास में थे और उसी में एक कि मौत बम विस्फोट में हुआ। कुम्भकर्णीय निद्रा से उठे स्थानीय विधायक इन दिनों क्षेत्र के दौरे पर है।
ललन सिंह ने वहाँ के स्थानीय विधायक पर कुछ दिन पहले हुए हमले पर बोलते हुए कहा कि तीन दिन से एक चर्चा जोरों पर है की विधायक पर जानलेवा हमला विफल हुआ। सवाल उठता है जो भी अपराधी मरा वो स्थानीय विधायक के आस पास भी नहीं था और अपने आचरण के मुताबिक अपराधी के मौत को खुद पर होने वाले हमले से जोड़कर लोगों में गलत बातें फैला रहे है।

मोकामा में बिगड़ती कानून व्यवस्था पर बिहार सरकार को दोषी बताते हुए उन्होंने कहा कि एक तरफ राज्य सरकार श्याम सुंदर यादव जैसे को खुले आम नंगा तांडव मचा रहा है वही दूसरे तरफ एक गुट उससे बदला लेने के लिए गैर कानूनी तरीके से बम बनाने में लगे है। मेरा सीधा आरोप है इस गुट को स्थानीय विधायक का समर्थन है और किसी भी कीमत पर क्षेत्र का माहौल बिगाड़ने नहीं दिया जाए। श्याम सुंदर यादव जैसे दरिंदे जल्द से जल्द गिरफ्तार हो और अगर ऐसा नही हुआ प्रशासन को जगाने के लिए जनता रास्ते पर आने पर मजबूर होगी। विधायक अनंत सिंह ने जो भी आरोप लगाए है मेरी जानकारी के अनुसार गलत है और मैं इस घटना का जांच का माँग करते है।

ललन सिंह ने वहाँ के स्थानीय विधायक पर गंभीर आरोप लगाते हुए  कहा कि अनंत सिंह को नीतिश सरकार का प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष समर्थन है, उसके बाद भी आज इनका बयान की IG का हाथ है वास्तविक में कोई हमला हुआ ही नहीं ! आने वाले दिन में कही किसी अन्य देश मे हुए आतंकी हमले को स्थानीय विधायक खुद पर होने वाले हमले से जोड़कर बताये तो आश्चर्य नहीं होना चाहिए। राज्य सरकार द्वारा मिले 3 सुरक्षा कर्मी और 6 हाउस गॉर्ड जो विधायक के निवास के लिए ही मिला है,उसका भी दुरुपयोग मंत्री वाले रोब में साथ में रखकर कर रहे है। हमे उम्मीद था कि सोनपुर में “हाथी घोड़ा पाल की” खेलने के बाद नीतिश सरकार के निजी क्षेत्र में आरक्षण के मुद्दे पर बोलेंगे। लेकिन राज्य की नीतिश और बीजेपी के सरकार के ये छुपे हुए शागिर्द है तो ये कैसे अपने अहम मित्र के खिलाफ मुहँ खेलेंगे। नया सगुफ़ा छोड़ दिये है अब इनके चाहने वाले “छोटे सरकार” में उलझे रहे।

Load More Related Articles
Load More By AShish Ranjan
Load More In प्रदेश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

खुद को सुन्नी वक्फ बोर्ड का वकील ना बताने पर गिरिराज सिंह ने कपिल सिब्बल पर किया बड़ा खुलासा

कल देश की सर्वोच्च अदालत में श्री राम जन्मभूमि केस की सुनवाई शुरू हुई तो कांग्रेस के नेता …