Home देश देश की सबसे पुरानी संस्था फिक्की की बैठक में बोले सुशील मोदी जीएसटी शताब्दी का सबसे बड़ा कर सुधार ।

देश की सबसे पुरानी संस्था फिक्की की बैठक में बोले सुशील मोदी जीएसटी शताब्दी का सबसे बड़ा कर सुधार ।

0 second read

पटना :उद्योग व व्यापार से जुड़ी देश की सबसे पुरानी संस्था फिक्की की नई दिल्ली में आयोजित वार्षिक आमसभा को सम्बोधित करते हुए उपमुख्यमंत्री सह जीएसटी नेटवर्क मंत्री समूह के अध्यक्ष सुशील कुमार मोदी ने कहा कि राजनीतिक एकीकरण तो पहले हो गया था मगर जीएसटी के कारण एक राष्ट्र ,एक कर और एक बाजार की अवधारणा के साथ देश का आर्थिक सुदृढ़ीकरण व एकीकरण संभव हो पाया है। जीएसटी शताब्दी का सबसे बड़ा कर सुधार है जिसकी रीढ़ जीएसटी नेटवर्क है।

सुशील कुमार मोदी ने जीएसटी से देश को हुई फायदे को गिनाते हुए कहा कि ।

  • पिछले चार महीने में 3 करोड़ 20 लाख तथा एक दिन में 18 लाख तक रिटर्न दाखिल हुए हैं ।
  • जीएसटी का ढांचा काफी सुदृढ़ है। कर राजस्व में स्थिरता आने के बाद इलेक्ट्रिकसिटी ड्यूटी, रियल एस्टेट और पेट्रोलियम पदार्थों को भी भविष्य में जीएसटी में शामिल करने पर कौंसिल विचार कर सकती है। वैसे जीएसटी के अन्तर्गत छोटे उद्योगों व करदाताओं की प्रारम्भिक परेशानियां काफी हद तक कम हो गई हैं।

पिछले दिनों गुवाहाटी में हुई जीएसटी कौंसिल की बैठक में 178 वस्तुओं के कर की दर को 28 से घटा कर 18 प्रतिशत करने के बाद कर की दर से जुड़ी 90 प्रतिशत समस्याओं का लगभग समाधान हो चुका है। अब पूरी प्रक्रिया के सरलीकरण का काम हो रहा है।

जीएसटी नेटवर्क में आ रही दिक्कतों पर भी इसमें किए गए बदलावों से हो रहे सुधारों को भी सुशील मोदी ने गिनाते हुए कहा कि । 40 प्रतिशत से अधिक करदाताओं की करदेयता शून्य हैं जो अब चंद सैकेंड में ही अपना रिटर्न दाखिल कर सकेंगे। जब वैट लागू हुआ था तब भी प्रारंभ में अनेक प्रकार की समस्याएं सामने आई थी मगर अन्ततः उससे राज्यों का राजस्व बढ़ा और उद्योग-धंधे को भी लाभ पहुंचा। बिहार जैसे उपभोक्ता राज्य को जीएसटी से काफी लाभ मिलेगा।

Load More Related Articles
Load More By Ashish Ranjan
Load More In देश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Check Also

बलिदान दिवस पर याद की गईं रानी लष्मी बाई और रानी दुर्गावती

 अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा द्वारा प्रदेश कार्यालय पर रानी लष्मी बाई और रानी दुर्गावती का…