Home प्रदेश जदयू प्रवक्ता का राहुल गाँधी को खुला पत्र,जेल में जा लालू यादव से मिलने की दी सुझाव Lokmat live

जदयू प्रवक्ता का राहुल गाँधी को खुला पत्र,जेल में जा लालू यादव से मिलने की दी सुझाव Lokmat live

41 second read

चारा घोटाला के मामले में सजा पाने के बाद जेल में बंद राष्ट्रीय जनता दल (राजद) अध्यक्ष लालू प्रसाद के बहाने  जनता दल (युनाइटेड) ने सोमवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधा. राहुल गांधी के नाम एक खुला पत्र जारी करते हुए जद (यू) प्रवक्ता नीरज कुमार एवं संजय सिंह ने  उनसे पूछा है कि वे लालू प्रसाद से जेल में जाकर कब मिलने वाले हैं.

कांग्रेस अध्यक्ष  राहुल गांधी  के नाम खुला पत्र लिखते हुए जदयू ने चाणक्य निति का हवाला देते हुए राहुल गाँधी को चाणक्य नीति’ का  पालन करने का सुझाव दिया ,जदयू ने पत्र की शुरुआत चाणक्य निति मी लिखी श्लोक के साथ करते हुए कहा की

आशा है, आप स्वस्थ एवं सानंद होंगे। आचार्य चाणक्य ने ’चाणक्य नीति’ में लिखा है,
’’आतुरे व्यसने प्राप्ते, दुर्भिक्षे शत्रुसंकटे।
राजद्वारे श्मशाने च यस्तिष्ठति स बान्धवः॥ ’’

जीवन में हमें जहां असीम खुशियां मिलती हैं, तो दुःख भी अपार मिलता है। सुख-दुःख जीवन के दो अहम पहलू हैं। जब हम सुखी होते हैं तो हम अपनी खुशियों को अपने सगे-संबंधियों, रिश्तेदारों और अपनों के साथ बांटते हैं पर जब हमारे जीवन में विपदा आती है, उस वक्त बहुत कम लोग ऐसे होते हैं, जो हमारे साथ खड़े होते हैं। उस समय हमें यह अहसास हो जाता है कि कौन इंसान अपना है और कौन पराया है।

चाणक्य नीति के लेखक और महान विद्वान आचार्य चाणक्य ने ’चाणक्य नीति’ में बताया है कि वह कौन से हालात हैं जो हमें यह बताती है कि कौन सा इंसान हमारे लिए अच्छा करता है और कौन बुरा। आज आपकी कांग्रेस पार्टी की सहयोगी पार्टी राजद के प्रमुख लालु प्रसाद जी देश के सबसे चर्चित चारा घोटाला के एक मामले में रांची के बिरसा मुंडा जेल में कैदी नंबर 3351 बनकर अपनी सजा काट रहे हैं।

राहुल गाँधी पर कटाक्ष करते हुए नीरज कुमार ने कहा की ऐसे  में अब तक आपका जेल पहुंचकर उनको सांत्वना नहीं देना ’चाणक्य नीति’ के विरुद्ध है। वैसे आपने सजायाफ्ता सांसदों और विधायकों को बचाने के लिए लाए गए अध्यादेश को बकवास बताते हुए उसे फाड़कर फेंकने का भी काम किया था। परंतु इसके बाद आपने भ्रष्टाचार के आरोपी और लालु प्रसाद के पुत्र तेजस्वी प्रसाद यादव के साथ एक होटल में खाना भी खाया।

ऐसे में आपको या तो अपने मित्र तेजस्वी के पिता और अपनी सहयोगी पार्टी के प्रमुख लालु जी से जेल में मिलने आना चाहिए और ’चाणक्य नीति’ का ही नहीं अपने ’मित्र धर्म’ का भी निर्वाह करना चाहिए या फिर भ्रष्टाचार के खिलाफ अपनी लड़ाई जारी रखनी चाहिए।

जदयू ने राहुल गाँधी द्वारा दिए गये उनके पुराने बयान को यद् दिलाते हुए पत्र में आगे लिखा गया है की ‘’अब समय आ गया है कि इस तरह की बकवास चीजों पर रोक लगाई जाए। भ्रष्टाचार से लड़ना है तो हमें इस तरह के छोटे समझौते नहीं करने चाहिए।’’ शायद इस बयान को आप भूल गए होंगे परंतु यह बयान भी आपका ही है, जिसे आपने अध्यादेश फाड़ने के बाद पत्रकारों से कहा था।

ऐसे एक शुभिंचंतक के नाते मुझे, आपको बताना भी फर्ज है कि जेल मैनुअल के मुतबिक एक सप्ताह में किसी कैदी से तीन लोग ही मिल सकते हैं। ऐसे में आप अपने सहयोगी दल के वर्तमान ’सर्वेसर्वा’ को और जेल प्रशासन को अपने आने की पहले ही सूचना दे देंगे। वैसे, आप एक राष्ट्रीय पार्टी के अध्यक्ष हैं, ऐसे में आप अपने ’आईकॉन’ या ’राजनीतिक गुरु’ से विशेष परिस्थिति में भी जेल में मुलाकात कर राजनीति के नए गुर सीख सकते हैं। बशर्ते इसके लिए आपको सक्षम न्यायालय से आदेश प्राप्त करना होगा।

Load More Related Articles
Load More By Ashish Ranjan
Load More In प्रदेश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Check Also

बलिदान दिवस पर याद की गईं रानी लष्मी बाई और रानी दुर्गावती

 अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा द्वारा प्रदेश कार्यालय पर रानी लष्मी बाई और रानी दुर्गावती का…