Home दुनिया राहुल गांधी के भाषण से भड़की बीजेपी ने विदेश में भारत को बदनाम करने का आरोप लगाया Lokmat Live

राहुल गांधी के भाषण से भड़की बीजेपी ने विदेश में भारत को बदनाम करने का आरोप लगाया Lokmat Live

0 second read

बहरीन में एक NRI सम्मेलन मे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के भाषण से बीजेपी भड़क गई है. आज पार्टी ने राहुल गांधी पर विदेश में देश को बदनाम करने का आरोप लगाया.

अपने भाषण में राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर बड़ा हमला बोलते हुए कहा कि बीजेपी देश में नफरत की राजनीति कर रही है. वहीं उन्होंने पहली बार खुलकर दावा किया कि कांग्रेस 2019 में बीजेपी को हराएगी. अब दावा तो दावा है लेकिन बड़ा सवाल है कि आखिर ये होगा कैसे? राहुल गांधी ने कहा, ‘’अफसोस की बात है कि आज हमारे देश में रोजगार, स्वास्थ्य सेवाएं और शिक्षा पर कोई बात नहीं हो रही है,आज केवल ये बात हो रही है कि आप क्या खाते हैं, कौन विरोध कर सकता है, कौन नहीं.’’

वहीं दिल्ली में भारतीय मूल के नागरिकों के एक सम्मेलन में प्रधानमंत्री मोदी ने बिना नाम लिए राहुल गांधी के आरोपों को जवाब दिया. इसके साथ बीजेपी ने खुलकर राहुल पर पलटवार किया. केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने राहुल पर विदेश में देश को बदनाम करने का आरोप लगाया. रविशंकर प्रसाद ने कहा, ‘’ राहुल गांधीजी मुझे पूछना है तीन तलाक पर आपकी पार्टी ने जो स्टैंड लिया वो प्यार फैलाने वाला स्टैंड या नफरत फैलाने वाला.’’

केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राहुल गांधी ने घृणा और नफरत फैलाने के लिए विदेश में भारत सरकार पर कई आरोप लगाए। लेकिन उन्हें अंतरराष्ट्रीय मंचों पर ऐसी बाते नहीं करनी चाहिए। आगे केंद्रीय मंत्री ने कहा कि जो पार्टी नारी न्याय को लेकर स्टैंड नहीं ले सकती वो विदेश में हमारी सरकार को सीख देने का काम कर रही है।

रविशंकर ने कहा कि अगर भारत में सबसे ज्यादा समुदाय पर नफरत की राजनीति किसी ने की है तो वो कांग्रेस पार्टी ने की है। आगे उन्होंने सवाल पूछा कि संघ के स्वयंसेवक जब कर्नाटक और केरल में मारे जाते हैं तो राहुल गांधी को इसमें घृणा दिखाई नहीं देती है? वही रोजगारी को लेकर उन्होंने कहा कि आज सड़कें अधिक बन रही हैं, जिसके माध्यम से लोगों को नौकरी भी मिल रही है। इतना ही नहीं भारत के आईटी सेक्टर में करीब 40 लाख लोग इंडायरेक्टली काम कर रहे हैं और करीब एक करोड़ 35 लाख लोग डायरेक्टली काम कर रहे हैं।

बीजेपी और कांग्रेस के बीच बहस तीखी होती जा रही है. इस तकरार की असल वजह है डेढ़ साल बाद होने वाला लोकसभा चुनाव.

राहुल ने 2019 में जीत का दावा जरूर किया लेकिन ये नहीं बताया कि उनकी पार्टी ने जीत कि क्या तैयारी की है. 2014 के बाद से जीत के मामले में उनकी पार्टी का रिकॉर्ड बहुत ही खराब रहा है बीते 3 सालों में देश के 19 राज्यों में कांग्रेस की हार हुई है अब सिर्फ 5 राज्यों में कांग्रेस की सरकार बची है वहीं दूसरी तरफ देश की 68 फीसदी आबादी पर बीजेपी या उसके सहयोगी दलों का कब्जा है सिर्फ राज्य ही नहीं संसद में कांग्रेस लगातार कमजोर होती जा रही है. लोकसभा में कांग्रेस के 44 सांसद हैं तो राज्यसभा में अब वो सबसे बड़ी पार्टी होने की हैसियत खो चुकी है

राहुल के लिए फिलहाल सबसे पहले पार्टी का अस्तित्व बचाने की चुनौती है ऐसे में ये बड़ा सवाल है कि 2019 में वो मोदी को टक्कर कैसे देंगे. पिछले दो दिनों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के भाषणों से 2019 के चुनाव की झलक मिलती है. ये ट्रेलर है. इसमें लगता है कि राहुल गांधी की रणनीति आक्रामक होकर एजेंडा सेट करने और लोगों को अपने साथ जोड़ने की है. जबकि फिलहाल नरेंद्र मोदी बिना नाम लिए उनके सवालों का जवाब देने में लगे हैं. लेकिन राहुल को 2019 में जीत के लिए और भी बहुत कुछ करना होगा. फिलहाल जंग जारी है.

Load More Related Articles
Load More By Ashish Ranjan
Load More In दुनिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Check Also

बलिदान दिवस पर याद की गईं रानी लष्मी बाई और रानी दुर्गावती

 अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा द्वारा प्रदेश कार्यालय पर रानी लष्मी बाई और रानी दुर्गावती का…