Home लोकप्रिय राम रहीम की करीबी हनीप्रीत ने बाहुबल और राजनैतिक संरक्षण मिलने के बाद कई खौफनाक चालें चलीं

राम रहीम की करीबी हनीप्रीत ने बाहुबल और राजनैतिक संरक्षण मिलने के बाद कई खौफनाक चालें चलीं

28 second read

राम रहीम की करीबी हनीप्रीत की. पैसा, बाहुबल और राजनैतिक संरक्षण मिलने के बाद इस तरह के लोग क्या-क्या खेल खेलते हैं, क्या-क्या चालें चलते हैं, उसको जानना और समझना ज़रूरी है. उसके बारे में सबको बताना ज़रूरी है. तभी इसके खिलाफ आवाज़ उठाना आसान होगा, इससे लड़ना का बल मिलेगा. राम रहीम के जेल जाने के बाद कई और मामले सामने आये. उनमें पीड़ितों ने बताया की टेलीविज़न पर खबरों के बाद उन्होंने सच को बोलने की हिम्मत जुटाई. हनीप्रीत की चार्जशीट पर आधारित लोकमत लाइव विशेष.

👉 कौन है हनीप्रीत ?
डेरा सच्चा सौदा के गुरमीत राम रहीम की सबसे करीबी मानी जाती है हनीप्रीत
बलात्कारी राम रहीम दावा करता था कि हनीप्रीत उसकी मुंहबोली बेटी है
हनीप्रीत का असली नाम प्रियंका तनेजा है, वो हरियाणा के फतेहाबाद की रहने वाली है
हनीप्रीत के असली पिता का नाम का रामानंद और मां का नाम आशा तनेजा है
हनीप्रीत ने फतेहाबाद से ही पढ़ाई की, बाद में डेरा के स्कूल में पढ़ने गई
राम रहीम के संपर्क में आने के बाद से हनीप्रीत का परिवार हनीप्रीत के साथ ही सिरसा के डेरे में रहता था
डेरा प्रमुख राम रहीम ने 14 फरवरी 1999 को हनीप्रीत की शादी डेरे के ही विश्वास गुप्ता से करायी
राम रहीम ने 2009 में हनीप्रीत को गोद ले लिया और विश्वास गुप्ता को दामाद बना लिया


2011 में विश्वास गुप्ता ने हाईकोर्ट में मुकदमा कर राम रहीम के कब्जे से हनीप्रीत को छुड़ाने की मांग की
विश्वास गुप्ता ने राम रहीम पर हनीप्रीत के साथ अवैध संबंध होने का भी आरोप लगाया
2014 में विश्वास गुप्ता ने राम रहीम से माफी मांगी और केस वापस ले लिया
डेरे के कई लोग ये दावा कर चुके हैं कि डेरे में हनीप्रीत का ही हुक्म चलता था, वो राम रहीम की सबसे ज्यादा करीबी थी
राम रहीम की फिल्मों में को-डायरेक्टर, आर्ट-डायरेक्टर और एक्टर के तौर पर हनीप्रीत का नाम था
2015 से 2017 तक राम रहीम की पांच फिल्में रिलीज हो चुकी हैं, उन सभी में हनीप्रीत भी थी

👉 जेल क्यों गई हनीप्रीत?
25 अगस्त 2017 को राम रहीम को दोषी करार दिए जाने के बाद हुई हिंसा के बाद ही हनीप्रीत फरार हो गई
1 सितंबर 2017 को हरियाणा पुलिस ने हनीप्रीत के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया था
25 अगस्त को पंचकुला हिंसा में 43 मोस्ट वांटेड लोगों की लिस्ट में हनीप्रीत का नाम सबसे ऊपर था
राम रहीम की गिरफ्तारी के बाद पंचकूला में हुई हिंसा में कुल 36 लोगों की मौत हुई थी
हनीप्रीत पर राम रहीम को भगाने की साजिश रचने, देशद्रोह और हिंसा भड़काने का आरोप है
हनीप्रीत पर देशद्रोह की धारा 121A लगाई गई है, इसके तहत 10 साल से लेकर उम्रकैद तक की सजा
धारा 120 B यानी आपराधिक साजिश रचने के मामले में भी आरोपी है हनीप्रीत
हनीप्रीत पर धारा 145, 150, 151 और 152 भी लगी हैं, ये धाराएं दंगों से जुड़ी धाराएं हैं
हनीप्रीत को पुलिस ने 3 अक्टूबर को जीरकपुर-पटियाला रोड से गिरफ्तार किया गया था
हनीप्रीत को 4 अक्टूबर को कोर्ट में पेश किया गया था, तब से वो अंबाला जेल में है

👉 कैसे फंसा राम रहीम ?
गुरमीत राम रहीम पर डेरे की दो साध्वियों ने 2002 में बलात्कार का आरोप लगाया था
अप्रैल 2002 में साध्वियों ने प्रधानमंत्री और पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट को चिट्ठी लिखकर शिकायत भेजी
शिकायत के आधार पर दिसंबर 2002 में सीबीआई ने राम रहीम के खिलाफ केस दर्ज किया
जुलाई 2007 में सीबीआई ने अंबाला सीबीआई कोर्ट में राम रहीम के खिलाफ चार्जशीट दायर की


25 जुलाई 2017 को सीबीआई कोर्ट ने रोजाना सुनवाई करने के निर्देश दिए
17 अगस्त 2017 को बहस पूरी होने के बाद विशेष CBI जज जगदीप सिंह ने फैसला सुरक्षित रख लिया था
25 अगस्त 2017 को पंचकुला की सीबीआई की विशेष अदालत ने बाबा राम रहीम को दोषी करार दिया
28 अगस्त 2017 को बलात्कार के मामले में राम रहीम को 20 साल की सजा सुनाई गई
बलात्कार के मामले में दोषी करार दिए जाने के बाद से राम रहीम रोहतक जेल में बंद है

Load More Related Articles
Load More By Ashish Ranjan
Load More In लोकप्रिय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Check Also

बलिदान दिवस पर याद की गईं रानी लष्मी बाई और रानी दुर्गावती

 अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा द्वारा प्रदेश कार्यालय पर रानी लष्मी बाई और रानी दुर्गावती का…