Home राजनीति राजनीति के चाणक्य अमित शाह ने राज्य सभा में अपने पहले भाषण में ही कांग्रेस को किया ध्वस्त

राजनीति के चाणक्य अमित शाह ने राज्य सभा में अपने पहले भाषण में ही कांग्रेस को किया ध्वस्त

28 second read
0
0
45

भारतीय जनता पार्टी राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने सोमवार को पहली बार राज्यसभा को संबोधित किया।

भाजपा अध्यक्ष ने इस दौरान कांग्रेस की नाकामियों को गिनाते हुए उस पर जमकर निशाना साधा। शाह ने कहा कि 30 साल के बाद 2014 में देश की जनता ने पहली बार किसी राजनीतिक दल को स्पष्ट जनादेश दिया। भाजपा अध्यक्ष ने इस दौरान राजग सरकार के कार्यकाल की उपलब्धियां गिनाईं।

देश मे जारी पकौड़ा पॉलिटिक्स पर शाह ने बेहद अहम बयान देते हुए कहा कि मेहनत करके अपने जीवनयापन के लिए पकोड़े बनाना शर्म की बात नहीं है लेकिन उसकी तुलना भिक्षु से करना शर्म की बात है। ऐसा कहना न सिर्फ कांग्रेस की मानसिकता को दर्शाता है बल्कि परिश्रम से स्वरोजगार करने वाले देश के लाखों लोगों का अपमान भी है।

शाह ने कहा कि देश के हर गरीब के घर में बिजली पहुंचाना, स्वास्थ्य सेवाएं पहुंचाना, शौचालय पहुंचाना, रोजगार पहुंचाना यह सरकार का फर्ज है… इसीलिए तो हमारे सेनानियों ने आजादी की लड़ाई लड़ी थी और मुझे गर्व है कि मोदी सरकार इसी दिशा में आगे बढ़ रही है। एक घर में शौचालय पहुँचने से स्वच्छता और स्वास्थ्य में तो सुधार होता ही है साथ ही महिलाओं को सम्मान के साथ जीने का अधिकार भी मिलता है। मोदी सरकार ने देश में 7 करोड़ से ज्यादा शौचालय बनाने का काम किया है और 2022 तक देश के हर घर में शौचालय बना दिए जाएंगे ।

अमित शाह ने भारत द्वारा किये गए सर्जिकल स्ट्राइक की भी चर्चा करते हुए कहा की सर्जिकल स्ट्राइक से न सिर्फ दुनिया ने मोदी सरकार की दृढ़ इच्छा शक्ति को स्वीकारा बल्कि उससे दुनिया का भारत को देखने का नज़रिया भी बदल गया।

अमित शाह ने अपने पहले भाषण में जीएसटी का जिक्र करते हुए कहा कि मोदी सरकार ने सबसे बड़े आर्थिक सुधार “एक राष्ट्र – एक कर” की कल्पना को चरितार्थ कर GST लागू किया। भारतीय जनता पार्टी ने विपक्ष में रहते हुए कभी GST का विरोध नहीं किया था बल्कि इसके तरीकों का विरोध किया गया था। मोदी सरकार के भरोसे से ही GST लागू हो पाया है।

शाह ने कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि GST को गब्बर सिंह टैक्स बोलने वालों से यह देश जरूर पूछेगा कि One Rank – One Pension में जवान के एकाउंट में पैसा भेजना, शहीद की विधवा के एकाउंट में पैसा भेजना, गरीब महिलाओं को उज्ज्वला योजना में गैस देना, सौभाग्य योजना से गरीब के घर मे बिजली देना……यह डकैती है क्या?

अपने 1 घण्टे से ज्यादा के भाषण में शाह ने एक साथ चुनाव कराए जाने के मुद्दे पर भी बोलते हुए संकेत दिए कि देश में बार-बार होने वाले अलग-अलग चुनावों से न सिर्फ विकास कार्यों में बाधा आती है बल्कि इससे चुनावी खर्च भी होता है। मैं सभी राजनीतिक दलों से अनुरोध करता हूँ कि इस पर स्वस्थ बहस हो और देशभर में पंचायत से लेकर पार्लियामेंट तक के चुनाव एक साथ होने पर विचार हो।

Load More Related Articles
Load More By Ashish Ranjan
Load More In राजनीति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

नीतीश सरकार के इस फैसले से तेजस्वी दंग, अब तो इनका सारा वोट बटोर लेगा एनडीए

लड़कियों के लिए बिहार की एनडीए सरकार ने बनाई है विशेष योजना, जन्म से लेकर ग्रेजुएशन तक 54,…