Home बिहार बिहार विधान सभा का नवम् सत्र 26 फरवरी से प्रारंभ होगा,विपक्ष का हंगामे के आसार

बिहार विधान सभा का नवम् सत्र 26 फरवरी से प्रारंभ होगा,विपक्ष का हंगामे के आसार

45 second read
0
0
27

पटना:- बिहार विधानसभा सचिवालय से प्राप्त सूचनानुसार षोडश बिहार विधानसभा का नवम् सत्र आगामी 26 फरवरी से प्रारंभ होगा। प्रथम दिन अर्थात 26 फरवरी को सर्वप्रथम शपथ प्रतिज्ञान ग्रहण (यदि हो), संविधान के संगत प्रावधान के अधीन बिहार विधान सभा वेष्म में बिहार विधान मंडल के दोनों सदनों के एक साथ समवेत बैठक में महामहिम राज्यपाल का अभिभाषण पश्चात सत्रान्तराल में महामहिम राज्यपाल द्वारा प्रख्यापित अध्यादेषों की प्रमाणीकृत प्रतियों को सदन पटल पर रखा जाना (यदि हो), आर्थिक संर्वेक्षण का प्रस्तुतीकरण तथा शोक प्रकाश (यदि हो) निष्पादित होगा। 27 फरवरी को वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए आय-व्ययक का उपस्थापन वित्तीय वर्ष 2017-18 के आय-व्ययक संबंधी तृतीय अनुपूरक व्यय-विवरणी का उपस्थापन तथा महामहिम राज्यपाल के अभिभाषण के धन्यवाद प्रस्ताव पर वाद-विवाद होगा।

28 फरवरी को महामहिम राज्यपाल के अभिभाषण के धन्यवाद प्रस्ताव पर वाद विवाद के बाद सरकार का उत्तर होगा। अगले दिन 1 मार्च को वर्ष 2018-19 के आय-व्ययक पर सामान्य विमर्श होगा। 2, 3 एवं 4 मार्च के होली के अवकाशोपरान्त 5 मार्च को वर्ष 2018-19 के आय-व्ययक पर सामान्य विमर्श एवं सरकार का उत्तर होगा। 6 मार्च को वर्ष 2017-18 की तृतीय अनुपूरक व्यय विवरणी पर वाद-विवाद, सरकार का उत्तर एवं तत्संबंधी विनियोग विधेयक प्रस्तुत होगा। आगे दिनांक 7, 8 एवं 9 मार्च को निरंतर वर्ष 2018-19 के आय-व्ययक के अनुदानों की मांगों पर वाद-विवाद तथा अंत में मतदान होगा। 10 एवं 11 मार्च को शनि-रविवारीय अवकाशों के बाद 12,13,14 एवं 15 मार्च को निरंतर वर्ष 2018-19 के आय-व्ययक के अनुदानों की मांगों पर वाद-विवाद तथा मतदान के बाद 16 मार्च को गैर सरकारी सदस्यों के कार्य लिए जाएंगे। 17-18 मार्च के शनि-रविवारीय अवकाशों के बाद 19, 20 एवं 21 मार्च को वर्ष 2018-19 के आय-व्ययक के अनुदानों की मांगों पर वाद-विवाद तथा मतदान होगा। 22 मार्च को ‘बिहार दिवस’ के उपलक्ष्य में बैठक स्थगित रहेंगी, 23 मार्च को वर्ष 2018-19 के आय-व्ययक के अनुदानों की मांगों पर वाद-विवाद तथा मतदान होगा।

24 एवं 25 मार्च को शनि-रविवारीय अवकाषों के बाद 26 मार्च को वर्ष 2018-19 के आय-व्ययक के अनुदानों की मांगों पर वाद-विवाद तथा मतदान, 27 मार्च को वर्ष 2018-19 के आय-व्ययक विषयक विनियोग विधेयक पर वाद-विवाद तथा सरकार का उत्तर और 28 मार्च को राजकीय विधेयक एवं अन्य राजकीय कार्य लिए जाएँगे। आगे 29, 30, 31 मार्च तथा 1 अपै्रल को विभिन्न राजकीय अवकाशोपरान्त 2 अप्रैल को राजकीय विधेयक एवं अन्य राजकीय कार्य होंगे, 3 अप्रैल को सतत् विकास लक्ष्यों हेतु निर्धारित कार्यक्रमों एवं योजनाओं पर विमर्श, होगा तथा 4 अप्रैल को गैर सरकारी सदस्यों के कार्य लिए जाएगे।

Load More Related Articles
Load More By Ashish Ranjan
Load More In बिहार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

कर्नाटक को ‘कमीशन’ वाली सरकार की नहीं, ‘मिशन’ वाली सरकार की जरूरत है: प्रधानमंत्री मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को कर्नाटक के मैसूरु में एक विशाल जनसभा को संबोधित कि…