Home बिहार शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्टता के लिए प्रौद्योगिकी का प्रयोग आवश्यक

शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्टता के लिए प्रौद्योगिकी का प्रयोग आवश्यक

25 second read
0
0
45

Lokmat LIVE Desk: दीघाघट स्थित, संत जेवियर कॉलेज ऑफ एडुकेशन में “शिक्षा के उत्कृष्टता के लिए प्रौद्योगिकी विषय पर एक दिवसीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संगोष्ठी का उद्घाटन महाविद्यालय की पूर्व विभागाध्यक्ष एवं प्राध्यापिका प्रीति सिन्हा ने किया। सिन्हा ने शिक्षा,समावेशी शिक्षा, व्यावसायिक शिक्षा इत्यादि क्षेत्रों में प्रौद्योगिकी एवं इसके प्रयोग के विषय पर प्रकाश डाला।

महाविद्यालय के प्राचार्य टी. पेरूमलिल ने शिक्षा के क्षेत्र में प्रौद्योगिकी के प्रयोग पर बल एवं वर्तमान शिक्षा व्यवस्था के बारे में अपना विचार रखा। संगोष्ठी में “बिहार के सरकारी विद्यालयों में सूचना एवं संप्रेषण तकनीक की गुणवत्ता एवं चुनौतियां”, “उच्च शिक्षा के क्षेत्र में मुक्त शिक्षण संसाधन:एक वरदान”, “आधुनिक शिक्षण प्रणाली में ई-लर्निंग एवं ऑनलाइन लर्निंग का बढ़ता उपयोग”, “भारतीय उच्च शिक्षा में मिश्रित ज्ञानार्जन की प्रासंगिकता” जैसे विषयों पर एम एड 2016-18 सत्र के विद्यार्थियों ने प्रस्तुति दी।

मौके पर प्राध्यापकों में डॉ. निमिषा, डॉ. शोभा, डॉ. विक्रमजीत सिंह, डॉ. मधु सिंह, सपना, फा. विक्टर, सुशील सिंह, दीप, विजयश्री, डॉ निवेदिता, सुजाता एवं स्मिता उपस्थित थे।

विद्यार्थियों में वर्तिका, रंजना, जॉन, रूपम रागिनी, राहत, जयश्री, कन्हैया, संजीव, राकेश मनीष, सुमित, मुकेश, शायजा, अंजली, अंकिता, अभिलाषा एवं अन्य ने सक्रिय योगदान दिया।

Load More Related Articles
Load More By Piyush Singh
Load More In बिहार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

ए. एन. कॉलेज में दो दिवसीय इंस्पिरेशनल केमिस्ट्री कार्यशाला का आयोजन हुआ

Lokmat LIVE Desk:- माइक्रो स्केल प्रायोगिक तकनीक द्वारा कई प्रयोग किए गए जिससे कम से कम रस…