Home बिहार इस वर्ष 27 हजार करोड़ कर संग्रह का लक्ष्य: सुशील मोदी

इस वर्ष 27 हजार करोड़ कर संग्रह का लक्ष्य: सुशील मोदी

4 second read

Lokmat LIVE Desk: वाणिज्य कर विभाग के आयुक्त, उपायुक्त व अन्य वरीय अधिकारियों के साथ पूरे दिन विस्तृत समीक्षा बैठक के बाद उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि कर संग्रह की नई व्यवस्था जीएसटी लागू होने वाले चुनौतीपूर्ण वर्ष 2017-18 में पिछले वर्ष 2016-17 की तुलना में 8.14 प्रतिशत वृ़िद्ध के साथ 20,277 करोड़ रुपये राजस्व संग्रह के लिए आप सभी बधाई के पात्र है।

इस वर्ष 35 प्रतिशत वृद्धि के साथ 27 हजार करोड़ कर संग्रह का लक्ष्य है। प्रधानमंत्री के आर्थिक सलाहकार अरविन्द सुब्रह्म्न्यम ने जीएसटी के अन्तर्गत और बेहतर कर संग्रह पर विचार-विमर्श के लिए अपने बिहार दौरे की सहमति दी है।

श्री मोदी ने बताया कि विगत वर्ष पेट्रोलियम पदार्थ से 5,548 करोड, इलेक्ट्रिसिटी ड्यूटी से 237 करोड़, गैर जीएसटी के अन्तर्गत (अप्रैल से मई) वैट, वैट के पुराना बकाया, केन्द्रीय बिक्री कर तथा इंट्री कर से 4,594 करोड़, जीएसटी के अन्तर्गत राज्यों के लिए निर्धारित 14 प्रतिशत सुरक्षित राजस्व की क्षतिपूर्ति के रुप में केन्द्र से 3,041 करोड़ की प्राप्ति हुई।
वाणिज्य कर विभाग की एक टीम को दो-तीन दूसरे राज्यों में भेज कर वहां हो रहे जीएसटी के कार्यान्वयन के अध्ययन कराने का निर्देश दिया।

इसी महीने वाणिज्य कर के सभी अंचलों में व्यापारियों की बैठक कर जीएसटी में आ रही दिक्कतों का उनसे फीडबैक लेने और उसका समाधान करने का निर्देश देते हुए कहा कि इस तरह की बैठक प्रत्येक 4 महीने पर की जाए।

वैट के तहत जहां मात्र 8 हजार व्यापारी कम्पोजिट स्कीम में शामिल थे वहीं जीएसटी के अन्तर्गत 90 हजार से ज्यादा डीलर इस स्कीम में निबंधित है, मगर उनसे काफी कम राजस्व की प्राप्ति हो रही है। ऐसे सभी डीलरों की बैठक कर राजस्व संग्रह की समीक्षा करने का निर्देश दिया।

Load More Related Articles
Load More By Piyush Singh
Load More In बिहार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Check Also

ए. एन. कॉलेज में दो दिवसीय इंस्पिरेशनल केमिस्ट्री कार्यशाला का आयोजन हुआ

Lokmat LIVE Desk:- माइक्रो स्केल प्रायोगिक तकनीक द्वारा कई प्रयोग किए गए जिससे कम से कम रस…